This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.This theme is Bloggerized by Lasantha Bandara - Premiumbloggertemplates.com.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.This theme is Bloggerized by Lasantha Bandara - Premiumbloggertemplates.com.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.This theme is Bloggerized by Lasantha Bandara - Premiumbloggertemplates.com.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.This theme is Bloggerized by Lasantha Bandara - Premiumbloggertemplates.com.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.This theme is Bloggerized by Lasantha Bandara - Premiumbloggertemplates.com.

Showing posts with label SCIENCE AND TECHNOLOGY. Show all posts
Showing posts with label SCIENCE AND TECHNOLOGY. Show all posts

Saturday, June 20, 2020

Solar Eclipse (Surya Grahan) June 2020 in India Live Updates:

Solar Eclipse (Surya Grahan) June 2020 in India Live Updates: When the Sun, the Moon, and the Earth are aligned in a straight line or an almost straight configuration, such that the Moon comes between the Sun and Earth blocking the rays of Sun from directly reaching the Earth, we witness a solar eclipse. Based on the alignment, there are three kinds of solar eclipses — total, partial, and annular — along with the addition of a rare hybrid of an annular and a total solar eclipse.




The solar eclipse of June 21 is an annular eclipse where the Moon is so far from Earth that its relative size fails to cover the Sun completely and leaves the outer rims visible, thus creating a ring of fire in the sky. The June 21 solar eclipse is the first solar eclipse of the year 2020. The second and last solar eclipse of the year will occur in December but it won’t be visible in India. The annular solar eclipse on June 21 will be the last eclipse to be seen from India until October 25, 2022.
According to Nehru Planetarium, Bhuj will be the first city in India from where the beginning of the eclipse will be visible at 9.58 am. The eclipse will end four hours later at 2.29 pm. Looking at the Sun directly can cause permanent damage to the retina so it is recommended to use special goggles, welder’s shield, or pin-hole imaging technique to see the solar eclipse.


Solar Eclipse or Surya Grahan 2020 Today in India Live Updates: The first solar eclipse of this year will take place on June 21, 2020. It will be an annular solar eclipse, during which the Moon covers the Sun from the centre leaving the outer ring visible, thus creating a ring of fire in the sky. This happens when the Moon is far away from Earth that makes its relative size not big enough to cover the Sun completely. The June 21 solar eclipse will start at 9:15 AM IST and will be visible until 3:04 PM IST. The maximum eclipse will take place at 12:10 IST. The eclipse will be visible from much of Asia, Africa, the Pacific, the Indian Ocean, parts of Europe and Australia.
IMPORTANT LINK:
CLICK HERE TO INFORMATION VIDEO
CLICK HERE LIVE SURYA GRAHAN
Important For 21 June Surya grahan



Share:

Solar Eclipse on June 21: India timings, how to WATCH Surya Grahan 21 JUNE 2020



21 जून को इस वर्ष का पहला चूड़ामणि सूर्य ग्रहण लगने वाला है। यह सुबह लगभग 10.14 बजे शुरू होगा और दोपहर 1.38 तक रहेगा। आर्ट ऑफ लिविंग के वैदिक धर्म संस्थान में ज्योतिष और वास्तु विभाग के प्रशासक आशुतोष चावला के अनुसार दिसंबर में हुआ सूर्य ग्रहण विश्व के लिए कई परेशानी लेकर आया था। कोरोना वायरस का जन्म हुआ और सभी देशों पर इसका असर हुआ है।

ज्योतिष के हिसाब से एक साथ तीन ग्रहण होना शुभ संकेत नहीं माना जाता है। 21 जून का सूर्य ग्रहण वायु तत्व की राशि पर आ रहा है तो इसके प्रभाव से वातावरण में अस्थिरता ज्यादा रहेगी। वायु यात्रा आने वाले कुछ समय और तक प्रभावित होने वाली है।
5 जून से 5 जुलाई तक30 दिन में तीन ग्रहण
अगले माह में 5 जुलाई को मांद्य चंद्र ग्रहण होगा। इससे पहले 5 जून को भी मांद्य चंद्र ग्रहण हुआ था। इस तरह 30 दिन में ये 3 ग्रहण पड़ रहे हैं और शास्त्रों के अनुसार भी इस को अच्छा नहीं माना जाता। महाभारत में भी इसका जिक्र है कि जब भी दो तिथि पर, दो नक्षत्र पर इतने कम समय में ग्रहण पड़ जाए, वो आम लोगों के लिए, देश के लिए, वातावरण के लिए अच्छा नहीं होता। क्योंकि, सूर्य आत्मकारक है और चंद्र मनकारक है। इन पर जब भी ग्रहण लगेगा, कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो अवसाद आना ही है। यह भी सही है कि कुछ लोगों को ग्रहण के कारण फायदा भी होता है। कुछ लोग जो भावनाओं में फंसे हुए होते है, उनके लिए ताकत मिल जाती है, वे इनसे बाहर निकल आते हैं या फ़िर जो काम रुके हुए होते हैं, उनके लिए एक विशेष बल इस समय पर मिलता है।
बुध की मिथुन राशि में होगा ये सूर्य ग्रहण
हर ग्रहण के समय सूतक लगता है, उसके बाद सब कुछ नया होता है। इसी प्रकार सूर्यदेव भी ग्रहण के बाद नए होंगे तो यह संकेत है कि कोरोना बीमारी का पतन इसके बाद आना चाहिए। यह ग्रहण बुध की मिथुन राशि में हो रहा है। मृगशिरा नक्षत्र और आर्द्रा नक्षत्र इस में संलग्न होंगे। आद्रा नक्षत्र भी मूल नक्षत्र का ही साथी है, रूद्र उसके देवता है। मृगशिरा नक्षत्र में सूर्य का होना थोड़ा राहत की बात तो नहीं कह सकते, लेकिन कम से कम ये दर्शाता है कि कोई नई बीमारी नहीं आने वाली है। मृगशिरा नक्षत्र के देवता सोम हैं। सोम यानी चंद्र, सोम को हमारे जीवन में एक ऐसा तत्व भी बताया जाता है जो हर बीमारी से बचाता है। संभव है इस ग्रहण के बाद शायद कोई वैक्सीन सामने आए जिससे कोरोना वायरस का अंत शुरू हो जाए।
ग्रहण की वजह से व्यापारियों के लिए बढ़ सकती हैं परेशानियां

बुध की मिथुन राशि होने के कारण व्यापार वर्ग के लिए कुछ मुश्किलें होने वाली है। भारत की अर्थव्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ सकता है। ये काल पुरुष की तीसरी राशि है और केतु भी नवम स्थान में है। तीसरा स्थान कुछ नया शुरू करने का होता है। नवम स्थान में केतु के रहने की वजह से हमारे अन्न आदि भंडारण पर थोड़ा संकट आ सकता है और उसके लिए हमें तैयार रहना पड़ेगा। मृगशिरा मंगल का नक्षत्र है, राहु भी इसमें संलग्न है, राहु और मंगल विस्फोटक स्थिति भी पैदा कर सकते है। हो सकता है कि कहीं न कहीं कुछ हिंसा हो। बाढ़ आ सकती है, हमारी खेती प्रभावित हो सकती है।
मंत्र जाप का मिलता है लाख गुना ज्यादा फल
साधकों के लिए तो ग्रहण एक वरदान ही होता है तो हर साधक को खुशी होनी चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि ग्रहण के समय मंत्र जाप करने से उसका लाख गुना ज्यादा फल मिलता है। अगर आप कोई मंत्र सिद्ध करना चाहते हैं तो ये बहुत ही अच्छा वक्त है। एक राहत की बात है कि ये ग्रहण इस बार सूर्य के खुद के वार में पड़ रहा है, रविवार को सूर्य बलवान है, क्योंकि सूर्य उसका दिन है।
सूतक काल में क्या करें और क्या न करें
कोई भी ग्रहण जब भी आया है तो कुछ नया सृजन हुआ है और ये सृजन धर्म और सत्य को बढ़ाने के लिए हुआ है। जो सही रास्ते पर हैं, उन सबको इससे शक्ति ही मिली है। ग्रहण का सूतक 20 जून की रात करीब 10.14 बजे से शुरू हो जाएगा। सूतक काल में कुछ खाना-पीना नहीं चाहिए। सूतक से पहले भोजन ग्रहण कर लें। सुबह उठकर ग्रहण से पहले स्नान कर लें। इसके बाद ध्यान-साधना आरंभ करें। ग्रहण काल में भी कुछ भी खाते-पीते नहीं हैं। सोते भी नहीं हैं। इस ग्रहण का असर आने वाले कुछ महीनों तक रहेगा। कम से कम छह-सात महीनों तक ग्रहण का असर बना रहेगा। 21 जून से लेकर दिसंबर-जनवरी तक का समय विशेष रहेगा। इसीलिए सभी लोगों को इस समय में विशेष सावधानी रखनी होगी।

IMPORTANT LINK:


Share:

Tuesday, August 6, 2019

SCIENCE FAIR ALL PATRAKO - USEFUL FOR ALL.

Science Fair All Patrako
(Excel File) 
Education All Circulars of Districts And Niyamak kacheri Gandhinagar,all Primary, Secondary and Higer Secondary Department. we also uploads various Job Updates of various government & Non-Government Sector from all over india. This blog is daily update about primery school letest circular , Educational news paper news, Breking news , all Goverment and private job ,Letest Techno tips, Insurance, Loans , Letest Mobile tips and all Competitive exam most imp gk, model paper, exam old paper, model paper in mp3 and most imp gk mp3 exam materials... Like Tet,Tat,Htat,Police constable bharti, Gsssb Clerk, Talati, and other exams, This blog You Can find Lots of Study Materials for All Competitive Exams Preaparation Like Tet,Tat,Htat,Gsssb Police Constable, Talati, junior clerk Exams This Education News Cutting From Gujarat Various Popular Newspaper Like Navgujarat Samay,Divya Bhaskar, Sandesh, Gujarat Samachar, Akila News And Many Other Newspaper.
Booth Level Officer; A Representative of Election Commission at the Grass-Root Level
For enhanced participation of electors in the electoral process and reducing the electoral malpractices, it is essential to improve the quality of electoral registration process and of the electoral rolls. Booth Level Officer (BLO) is a local Government/Semi-Government official, familiar with the local electors and generally a voter in the same polling area who assists in updating the roll using his local knowledge. In fact, BLO is a representative of Election Commission of India (ECI) at the grass-root level who plays a pivotal role in the process of roll revision and collecting actual field information with regard to the roll corresponding to the polling area assigned to him.
Under Section 13B (2) of Representation of People Act, 1950, BLOs are appointed from amongst the officers of the Govt. /Semi Govt. /Local Bodies. Generally, one BLO is responsible for one part of the electoral roll. From August, 2006 the Commission has decided to introduce the concept of appointing BLOs who would be accountable for ensuring the fidelity of electoral roll.+
The ECI introduced this new system of appointing BLOs creating a clear line of accountability for preparation of an error-free electoral roll, making the BLOs its custodian at the polling booth level. Previously, voter-identification slips used to be distributed by the contesting candidates of various political parties and that gave scope for complaints. The preparation of accurate electoral rolls and direct distribution of voter identification slip by the BLOs also boosted voter confidence in the credibility of the election process.
BLO assists eligible citizens to become voters and obtain voter card. BLO provides those different forms for addition, deletion and correction of Electoral Roll entries, carries out physical verification, and gives his/her report to Electoral Registration Officer (ERO) .The BLO interacts with local people/ political parties’ representatives and identifies dead/shifted/duplicate voters to be removed from the electoral roll after due process of law. Must visit this blog everyday for latest offers of various brand and other technology Updates.
SCIENCE FAIR ALL PATRAKO  - USEFUL FOR ALL.
Share:

Blog Archive